How to control your ANGER- Part-2

मेरी पिछले post में आपने पढ़ा की किस तरह गुस्से में एक पिता ने अपनी ही 5 साल की बेटी को चोटिल कर दिया, और बाद में अपने गुस्से के लिए पछता रहा था.Anger Control- How to control your Anger?

How to control Anger

मैं अपनी बात एक किस्से के साथ शुरु करना चाहता हूँ, ये किस्सा कुछ इस प्रकार है| एक बार भगवान गौतम बुद्ध अपने शिष्यों के साथ बेठे थे, तभी वंहा पर एक आदमी आता है और भगवान बुद्ध को भला बुरा कहना शुरु कर देता हे, और उन्हें गालिया भी देता है|

लेकिन बुद्ध इसका कुछ भी जवाब नहीं देते है, वो आदमी गालिया दे कर चला जाता है, उन शिष्यों के बिच एक व्यापारी भी वंहा बेठा होता है, जो की उनका शिष्य था, उसे यह सब सुन कर बुरा लगता है|

वो भगवान् बुद्ध से पूछता है, की आप को गुस्सा नहीं आया, वो आदमी आप को गालिया दे कर गया, तो बुद्ध ने कहा, उस ने मुझे गालिया दी, लेकिन मेने तो ली ही नहीं, और जब मेने ली ही नहीं तो मुझे गुस्सा क्यों आएगा, वो शिष्य बोला ऐसा कैसे, उसने आपको गालिया दी, हमने भी सुनी, लेकिन आप ने नहीं ली ऐसा कैसे हो सकता है|

बुद्ध ने उसे अपने पास बुलाया और उसे कहा की, अपनी कोई वस्तु मुझे दो, उस आदमी ने अपनी सोने की चैन निकाल कर बुद्ध की ओर बढाई , भगवान बुद्ध ने लेने से मना कर दिया, उन्होंने कहा मुझे नहीं चाइये, भगवान बुद्ध ने उस आदमी से पूछा, जब तुमने ये चैन मुझे देना चाहा और मेने नहीं ली तो ये किस के पास रही, उस आदमी ने कहा ये तो मेरे पास ही रह गयी|

तो बुद्ध बोले यानी की देने वाले के पास ,इस प्रकार जब उस आदमी ने मुझे गालिया दी, तो मेने वो ली ही नहीं तो वो गालिया किस के पास रही, वो आदमी अब समझ चूका था की, वो गालिया देने वाले के ही पास रही……

Moral :-  जब कोई आपको बुरा कहे, गालिया दे ,आपकी बेइजती करे, आप पर गुस्सा हो, उसे कुछ नहीं कहे , बल्कि शांत रहे, इससे उस आदमी का गुस्सा भी शांत हो जायेगा|

1 ) Cool and Calm like भगवान बुद्ध

2) Think before you speak- आप को यदि किसी की बात बुरी लगी है, और यदि कोई काम आप के हिसाब से नहीं हो रहा है, तो उस समय react ना करके response करना है, यानी आप को अपना view देना है, न की बहस और किसी भी प्रकार का reaction देना है | आप को over react नहीं करना है|

Explain your Anger, don’t express it & you will immediately open the door to solution instead of Arguments

3) Don’t say anything at that moment- गुस्से को control करने का सबसे अच्छा तरीका है, की आप उस समय कुछ भी ना बोले, चुप रहने की कोशिश करे, चाये कोई कुछ भी कहे, इससे आपको सोचने का Time मिल जायेगा, आप अपनी बात और अच्छे तरीके से समझा पाएंगे| आप ऐसा भी कर सकते है, गुस्से को बोले की आज नहीं कल आना,

The best ANSWER to Anger is SILENCE

4) Stop and Think– अपने आप से पूछे की क्या हुआ जिसकी वज़ह से गुस्सा आया, उसके पीछे का कारण जानने की कोशिस करे , ऐसा करने से आप ये जान पाएंगे की किस situation  में आप को गुस्सा आता है, ताकि आप उस पर control कर सके|

5) Walk Away from that place– उस जगह से चले जाये जिस जगह पर आप को गुस्सा आया हो, ऐसा करने से आप का मन शांत होगा, और आप अपने गुस्से पर control कर पाओगे|

6) Express your anger:- ये क्या कह रहा हूँ मैं ,आप यही सोच रहे होंगे, जी मैं बिलकुल सही कह रहा हूँ, Express Your Anger, लेकिन कब आप को ऐसा करना है| जब आपका गुस्सा सातवे आसमान पर हो, उस समय गुस्से को control ना करके उसे बाहर निकाल देना चायिये, क्यों की यदि आप ऐसा नहीं करते हो, तो ये गुस्सा आपकी health को भी नुकसान पंहुचा सकता है|

7) Practice relaxation skills: –

  • Take a deep breath -लम्बी और गहरी सांस ले,
  • Count up to 10…..
  • Drink 2-3 sip of water
  • This one is unique….. Put pen between your teeth
  • Imagine a relaxing scene
  • Repeat a calming word or phrase, such as “All is well, All is well………..
  • If you are short temper and really want to come out of this, then start yoga, meditation……

ऊपर बताये गए तरीको से आप अपने गुस्से पर धीरे धीरे control करना सिख जायेंगे…………………..

Believe in Yourself

क्यों की मन के हारे हार है, मन के जीते जीत…………………

Anger Control- How to control your Anger?

What is ANGER

यदि आप को गुस्सा आता है, that’s ok-  Anger is a normal natural emotion, आप गुस्से को निकाल कर नहीं फेक सकते, लेकिन आप इसे control कर सकते हो|

Anger is an emotion like other emotions….. Happiness, sadness

Control your anger, before it controls you

So, it’s not “Bad” to feel angry?

हमेशा गुस्सा करना बुरा नहीं होता है, कभी कभी ये हमारी बात रखने का जरिया भी होता है, उस समय हमें कोई टोकने या रोकने की कोशिस नहीं करता है, और हम हमारी बात रख सकते है, लेकिन गुस्से को control करना जरुरी है, या इसे सही तरीके से इस्तेमाल करना आना चाइये|

गुस्सा सब को आता है, even छोटा बच्चा भी गुस्सा होता है, और तो और आप को ये जान कर आश्चर्य होगा की, भगवन को भी गुस्सा आता है,…. , मुझे एक किस्सा याद आ रहा है, वो में आपके साथ share करता हूँ……………

एक बार भगवन श्री राम भी गुस्सा हो गए थे, भगवन श्री राम को अपनी सेना के साथ लंका जाने के लिए समुद्र पार करना था | उस समय भगवन राम समुद्र देव को प्रसन करने के लिए उनकी पूजा करते है, लेकिन ३ दिन बित जाने पर भी जब समुद्र देव उनकी प्राथना सुनकर नहीं आते है|

तब भगवान श्री राम को गुस्सा आता है और वो समुद्र को चेतावनी देते हुए पुरे समुद्र को सुखाने के लिए धनुष पर बाण रख कर चलाने ही वाले होते है, की समुद्र देव प्रगट हो जाते है, उनसे क्षमा मांगते है और उन्हें समुद्र पार करने का तरीका बताते है|

तो कभी कभी जायज़ कारण और सबके कल्याण के लिए गुस्सा होना लाज़मी है, गुस्सा अपने स्वार्थ की पूर्ति के लिए नहीं होना चाइये|

लोगो को गुस्सा क्यों आता है – why do people get angry

  • Losing Patience – किसी की कही गयी बात को दिल से लगा लेना, उसने मुझे ऐसा कैसे कह दिया, सबके सामने मुझे बेइजत कर दिया … अब लोग मेरे बारे में क्या सोचेंगे, आप को कही जाने की जल्दी है, और आप traffic jam, में फस जाते है, आप इस पारिस्थिती में गुस्सा हो रहे है, जब की आप का इस पारिस्थिती में कोई भी control नहीं है, यदि हमारा situation  पर control नहीं है, फिर भी हम गुस्सा हो रहे है, तो हम में patience की कमी है|
  • Feeling- if your opinion or efforts aren’t appreciated :- Office में manager ने सबके सामने कुछ कह दिया, जब आपने अपना opinion दिया, जब कोई हमें ऐसा कुछ कहता है, जो हमारी नज़र में तो सही है, लेकिन सामने वाला उसे गलत मानता है, यानी हमारे belief के हिसाब से बात नहीं हो, तो हमें गुस्सा आता है, ये एक ऐसा emotion हे जिसे express करने के बाद सिर्फ और सिर्फ नुक्सान ही होता है, क्यों की गुस्सा न तो personal life में or ना ही Professional  life में अच्छा होता है |

Harm by Anger

गुस्से में कही गयी बात के लिए, हमें बाद में पछताना पड़ता है, क्यों की उस समय हम अपने दिमाग का इस्तेमाल नहीं करते है, जब हम गुस्से में होते है, उस समय हमारी जबान , हमारे दिमाग से ज्यादा तेज चलती है |

हम वो कहते है, जो हमारे belief के हिसाब से सही है, जो हमारा मन कहने को करता है, हम वो नहीं करते जो सही होता है|

कैसे एक पिता के गुस्से ने अपनी ही बेटी को चोटिल कर दिया

एक पिता  Sunday को अपनी नई गाडी को साफ़ कर रहे थे ,उसी समय उसकी बेटी गाडी के पास आती है, और किसी नुकीली pin से गाडी पे कुछ लिख रही होती है, scratch की आवाज़ सुन कर उसके पिता  गुस्से में आते है, और अपनी बेटी से  वो नुकीली pin इस प्रकार से छीनते है, की उसकी उंगली से खून आने लगता है, खून देख कर पिता का गुस्सा चला जाता है|

वो अपनी बेटी को ले कर hospital जाता है, बेटी अपने पिता से पूछती है, की पापा मेरी उंगली तो ठीक हो जाएगी ना, पिता की आँखों में आंसू आ जाते है, वो वापस अपने घर आ कर अपनी गाडी को देखता है, की उसकी बेटी उस pin  से क्या कर रही थी, जब पिता ये देखता है, की उसकी बेटी ने गाडी पर I love you Papa लिखा था, अब उसे अपने किये हुए पर पश्चाताप हो रहा था, की उसने गुस्सा क्यों किया……

You will not be punished for your anger; you will be punished by your anger.

अगले part  में हम सीखेंगे, की अपने गुस्से को कैसे control करना चायिये…..

https://www.youtube.com/changeyourlifeyoucan

S.M.A.R.T Way to set your GOAL

How to Set Your GOAL

हम सबका अपनी life में एक ना एक Goal जरुर होता है, और हम उसे हासिल करने के लिए कोशिश भी करते है, लेकिन ऐसा क्या होता है, की हम हमारे GOAL से दूर हो जाते है, क्यों हम अपने Goal को दुसरो की तरह हासिल नहीं कर पाते है, ऐसा कोनसा तरीका है जिससे हम हमारे goal को achieve कर सकते है…….

Reasons and Answer why we are not achieving our goals- in 2 Quotes

A Goal without a time line is just a dream.-  Robert Herjavec

The Moment You Put a deadline on your dream it become a GOAL – Stephen Kellogg

इसे हम थोडा details में समझते है…………..

Why we fail to achieve our GOAL

Reasons:

  1. Lack of Focus – अपने goal पर focus नहीं करना
  2. Start Without proper planning– बिना planning के कोई काम शुरू करना
  3. Without deadline- goal के लिए कोई भी deadline set नहीं करना
  4. Doubt in Yourself- अपने आप पर शक करना की मेरे से होगा या नहीं
  5. Early Give-up – थोड़ी सी असफलता मिलते ही छोड़ देना

Here The S.M.A.R.T way to set your goal

S- Specific

M- Measurable

A- Achievable

R – Realistic

T- Time Bound

S- Specific – हम अपने goal की तरफ तभी आगे बढ़ सकते है, जब हमारा goal specific होगा, यानि “जाना कंहा है” यह हमें मालूम होना चाहिए, नहीं तो हम अपने goal को कभी भी achieve नहीं कर पाएंगे, क्यों की जब हमें पता ही नहीं होगा की, हमें जाना कंहा है, तो हम अपने goal को कैसे achieve करेंगे, इसके लिए आप अपने goal और target को set करे|

M- Measurable-“कैसे जाना है” इसके लिए आपको KPIs Set करना होगा, क्यों की जब तक आप अपने goal को track नहीं करेंगे, आप को पता ही नहीं चलेगा की, आप अपने goal के कितने करीब हो या दूर, आप को हमेशा अपने improvement को measure करते रहना चायिये| 

A- Achievable“कैसे मिलेगा” आप जो भी goal set करे वो achievable होना चाइये, जिसे आप achieve कर सके

R – Realistic“क्या मिलेगा”आपका goal वास्तविक होना चायिये ना की काल्पनिक, यदि आपका goal realistic होगा तभी आप उसे achieve कर पाएंगे |

T- Time Bound- “कब मिलेगा” आप अपने लिए जो भी goal रखे उस goal को पूरा करने के लिए एक time set करे,क्यों की जब हम किसी काम को करने के लिए कोई time set करते है, तो हमारा mind active हो जाता है|

यदि आप SMART GOAL set करते है, तो एक दिन सफलता जरुर मिलेगी

Success is not final, failure is not fatal: it is the courage to continue that counts. — Winston Churchill

आप KPI set कर के अपने goal को पा सकते है.

Role of KPIs-

KPIs- Key Performance Indicators- यदि हम हमारे goal को achieve करना चाहते है तो हमें Self-KPI set करना होगा, ताकि हम हमारे goal को पाने के रास्ते से भटक ना जाये| इसके लिए आपको अपने 24 hours को इस तरह से बाँटना होगा की आप अपने Time का सदुपयोग अपने goal को पाने में कर सके|

सबसे पहले आप अपना ME TIME find करे, i.e. Available Time out of 24 Hours for your goal, क्यों की इसके बिना आप अपने goal को achieve नहीं कर पाएंगे|

  • Set your clear goal or target- सबसे पहले आप को S.M.A.R.T. तरीके से अपने goal को set करना है, आपका goal Time Bound होना चायिये|
  • Set Self Rating for Task – यदि आप अपने daily target को achieve करते है तो अपने आप को Out of 5 rating दे सकते है. Eg.
    • 5- Best- 90% or More
    • 4- Better- 70-80% or More
    • 3- Good- 50-60 % or More
    • 2- Improvement Required- 40%
    • 1- Bad- less Than 40%
  • Monitor your KPI Rating daily or weekly 
  • Check your Progress daily  – आपको अपनी progress पर daily नज़र रखनी होगी, यदि कही सुधार की जरुरत हो, तो उसमे सुधार ला कर अपने goal को achieve कर सकते है|

यह सब तभी संभव होगा जब हम अपने goal को पाने के लिए अधीर होंगे और रोज उस पर मेहनत करेंगे, KPI आप के लिए एक Report Card की तरह होगा, जो आपको यह बताएगा की आप अपने goal के कितने करीब हो या दूर…….

“One day or Day one” Choice is yours

Self-Improvement

Never stop learning, because life never stops teaching

What is Self-Improvement

Self-improvement is the improvement of one’s knowledge, status, or character by one’s own efforts.

इसे हम थोडा detail में समझते है….

हम Self-improvement के बारे में तभी सोच सकते है, जब हम  ये मानने के लिए तैयार हो की, हम मैं भी कुछ कमिया हो सकती है, और self-improvement की आवश्यकता है,क्यों की कोई भी person Perfect नहीं होता है, लेकिन हम कोशिश कर के अपनी कमियों को दूर कर सकते है|

What we need to do for Self Improvement

  1. Self-Control- सबसे पहले हमें अपने आप पर control करना होगा, क्यों की हमें जब भी self-improvement का ख्याल आता है, तो हम आज की बजाय कल पर टाल देते है, यदि आप चाहते है की आप में improvement आये, तो इसके लिए आप को सबसे पहले अपने आप पर control करना होगा
  2. Do little more – Self Improvement के लिए आप को कल से बेहतर करना होगा, इसके लिए ज्यादा कुछ करने की जरुरत नहीं है, बस आप को, अपने बीते हुए कल से थोडा ज्यादा करना होगा, Little Bit….More……….
  3. Paint yourself with  New Skills– जब घर में हम Paint कराते है, तो घर नया जैसे लगने लग जाता है, जबकि घर तो पुराना ही होता है, ठीक वेसे ही हमें भी नए Paint…….. यानी की New Skills की जरुरत है self –improvement के लिए,  Learn New Skills……. For better tomorrow…………
  4. Develop a new habit- कहते है की आदत बदलने से लोग बदल जाते है, Self-improvement के लिए हमें हमारी आदत को बदलना पड़ेगा, हमें हमारी regular आदत को change करना है,यदि आपकी आदत Books पढने की नहीं है, तो Start reading books for Self-Improvement, क्यों की Books पढने से आपका knowledge ही बढेगा, आप मेरी post HABIT- change your Habit, Change Your Life  वाली post पढ़ सकते है|
  5. Set Goal or Target- आप self-improvement के लिए goal set करे, क्यों की जब तक आप कोई goal set नहीं करेंगे, तब तक क्या करना है, मालूम नहीं होगा और आप अपने goal की तरफ आगे नहीं बढ़ पाएंगे|
  6. Positive Self-Talk- हमारा mind 24*7 चलता ही रहता है, हम दिन भर कुछ न कुछ सोचते ही रहते है, Negative or Positive,….. बस हमें केवल positive ही सोचना है या मैं ऐसा कहू आप जब भी अपने आप से बाते करे, तब आप positive ही बात करे, ऐसा करने से आपके mind में positive विचार आयेंगे और उसका result भी positive ही आएगा|
  7. Ask Questions- जब तक आप पूछेंगे नहीं, आप को पता नहीं चलेगा की, आप को क्या करना है, कैसे करना है, कब करना है, अपने आप से ये सवाल पूछे, सवाल पूछने से आप की जानकारी ही बढेगी, और यदि कुछ कमी हुई तो आप उसमें सुधार कर सकते है|
  8. Be Ready for Changes- हम change से डरते है, यदि आप self-improvement चाहते है तो आप को change के लिए हमेशा तैयार रहना होगा, ये change कुछ भी हो सकता है जैसे सुबह जल्दी उठना, TV नहीं देखना, exercise करना और वो सब Changes जो आपको डराते हो.
  9. Leave your Comfort Zone- Self-Improvement के लिए आपको अपने Comfort Zone से बाहर आना होगा|Comfort Zone- The way to come out of it.
  10. Believe in Yourself-लोगो को अपने आप पर भरोसा ही नहीं होता है, की वो भी कर सकते है, अपने आप पर भरोसा करना की, मैं कर सकता हूँ, ऐसा सोचना भी अपने आप में एक नई energy भर देता है|

इस तरह आप अपने आप में Improvement ला सकते है, बस आवश्यकता है तो अपने आप पर भरोसा करने की और एक कदम बढ़ाने की…….

H A B I T- Change your Habit, Change you Life.

क्या आप life में सफल होना चाहते है, तो आप को अपनी आदत बदलनी होगी, क्या आप अपनी आदत बदलना चाहते है? आज हम बात करेंगे अपनी आदत के बारे में, आदत या तो अच्छी होगी या बुरी, अच्छी आदत जंहा हमें सफलता की ओर ले जाती है, वंही बुरी आदत हमें सफलता से दूर……

क्या आप life में सफल होना चाहते है, तो आप को अपनी आदत बदलनी होगी, क्या आप अपनी आदत बदलना चाहते है? आज हम बात करेंगे अपनी आदत के बारे में, आदत या तो अच्छी होगी या बुरी, अच्छी आदत जंहा हमें सफलता की ओर ले जाती है, वंही बुरी आदत हमें सफलता से दूर……

आदत बनती नहीं बनानी पड़ती है|

मुझे मेरे बचपन का एक किस्सा याद आ रहा है, एक बच्चा था, जो पढ़ने के लिए सुबह जल्दी उठ नहीं पाता था, उसके parents ने ये बात उसके teacher को बताई, की हमारा बच्चा सुबह पढने के लिए उठ नहीं पाता है, और ये पढाई में पीछे रह जायेगा…..

teacher ने कहा की ठीक है, मैं आप के बच्चे को एक दवाई दूंगा जो उसे 20 दिन तक लेनी है, लेकिन ये दवाई उसे सुबह जल्दी उठ कर नहाने के बाद लेनी है, उसके बाद उसे अपनी पढाई शुरु करनी है, teacher ने वो दवाई बच्चे के parents को कागज़ की पुडिया में बना कर दे दी, बच्चे के parents खुश हो गए……

बच्चा रोज़ सुबह उठ कर दवाई ले कर पढाई करता था, अब उसमे change आने लग गया और वो धीरे….. धीरे….. पढने में भी तेज होने लगा, लेकिन……….. एक दिन दवाई खत्म हो गयी, उसके parents ने सोचा की अब क्या होगा, वो वापस उसी teacher के पास दवाई के लिए गए…………..

आप को ये जान कर हेरानी होगी की teacher ने कहा की मेने तो उसे कोई भी दवा नहीं दी…. वो तो सिर्फ शक्कर और नमक का मिश्रण था…. ये कमाल दवा से नहीं, बल्कि उसके जल्दी उठने की आदत और मेहनत करने से हुआ है……हमें भी ऐसे ही एक मिश्रण की जरुरत है, जिसे लेने के बाद हम भी अपनी आदत को बदल सके…..

How to Change Your Habits

1) Problem –अलार्म लगाते हो, लेकिन उठ नहीं पाते क्यों की, Alarm को Snooze कर देते हो

क्या हम ऐसा तब भी करते है, जब हमें कही बाहर जाना हो या ट्रेन पकड़ना हो, नहीं ना…….,क्यों की ऐसा करने से नुकसान हो जायेगा|

Solution- Set a punishment for yourself for snoozing Alarm….

2) Problem – बुरी आदत नहीं छुडतीजेसै सिगरेट तम्बाकू, शराब

Solution- छुडेगी नहींछोडना पड़ेगा… कैसे, खरीदना छोड़ दो….. ये तो आपके हाथ में ही है, तलब लगे तो हाथ में पकड़ना छोड़ दो…. एक बार कर के तो देखो……….

 3) Problem – बार बार mobile देखने की आदत, कही किसी का phone तो नहीं आया, Message तो नहीं आया, यदि कुछ छुड गया तो…….. और Mobile में Game खेलने की बुरी आदत

Solution- Don’t check so much , कुछ भी नही होगा, हो सके तो कुछ देर के लिए Mobile use मत करो,off your Internet ,आप ऐसा Sunday को कर सकते है, ऐसा करने से हम ये आदत धीरे धीरे बदल सकते है|

4) Problem –  आज का काम कल पर टालना

solution यदि आप की आदत काम को टालने की है तो आप अपने काम को पेपर पर लिखे , एक column में लिखे यदि आज करूंगा तो क्या फायदा होगा, और दुसरे column में लिखे यदि आज नहीं करूंगा तो क्या नुकसान होगा, यदि नुकसान ज्यादा हो रहा है, तो आप को पता ही है क्या करना है………..

आदत धीरे धीरे बनती है चाये अच्छी हो या बुरी ,अपने आप को थोड़ा समय दे, कोशिश कर के देखे, change जरूर होगा।

“You Cannot Change Your Future, but you can change your Habits, and Surely Your Habits will change Your Future”

अपने Routine पर नज़र रखे, जैसे ही आपको लगे की आप गलत कर रहे हो, या गलत Direction में जा रहे हो, उसी समय अपने आप को रोक ले, आप इसके लिए अपने किसी friend की Help ले सकते है,जो आपकी मदद कर सके या genuine feedback दे सके|

यदि आप अपने आप में change लाना चाहते है, तो अपने लिए Goal सेट करे, Target सेट करे, आप अपने आप को हर एक Achievement  पर Reward दे सकते है, Self Rating के लिए आप KPI (Key Performance Indicators) सेट कर सकते है……….  KPI और Goal Setting के बारे में हम मेरे अगली Post में जानते है|

“Change your Habit, Change you Life”