Skip to toolbar

अक्सर हमने लोगो से सुना है, की अपने मन को शांत रखो या अपने मन को control में रखो, तो क्या हम अपने मन के बस में है, क्या मन पर हमारा control नहीं है…….यदि ऐसा है, तो हम अपने मन पर control कैसे कर सकते है…….

इसे हम थोडा detail में समझते है….

Change Your Mindset, Change Your Life.

इससे पहले की मैं ये बताऊ की हम, हमारे मन के control में है या नहीं, कुछ सवाल पूछना चाहूँगा….

  1. क्या आप को गुस्सा आता है?
  2. क्या आप किसी की बात का बुरा मान लेते है?
  3. क्या आप एक ही बात को बार बार सोचते रहते है?
  4. क्या आप ज्यादा सोचना छोड़ना चाहते है?
  5. क्या आप का अपने आप पर control नहीं है?
  6. क्या आप दुसरो की बात पर जल्दी विश्वास कर लेते है?

यदि इन सवालो का जवाब हाँ में है, तो ये Post आप के लिए है….. क्यों की आप, अपने मन के control में नहीं रहना चाहते है.

Important Note

“If you don’t control your mind , someone else will”

“The mind of man is capable of anything.” —Joseph Conrad

हम अपने मन में दिन भर होने वाली बात या किसी घटना को याद करते रहते है, इससे हमारा दिमाग उस बात को बार बार हमें याद दिलाता रहता है ,जबकि हम उसे भूलना चाहते है….. लेकिन बार बार सोचने के कारण हम उसे भुला नहीं पाते है….और परेशान रहते है…… इससे निकलना जरुरी है…नहीं तो ये आगे चल कर depression में भी बदल सकता है|

मन को control करने के दो तरीके है

  1. Temporary
  2. Permanent

Temporary: –वो उपाय जिससे हम अपने मन को थोड़ी देर के लिए divert कर सकते है… इसके लिए

  1. आप अपने दोस्तों से बाते कर सकते है
  2. Movie देखने जा सकते है
  3. Motivational Post, पढ़ सकते है
  4. अपने आप को busy रखने की कोशिश कर सकते है
  5. छोटे बच्चो के साथ खेल सकते है…… इस तरह से आप अपने मन में आने वाले विचारो को कुछ देर तक तो रोक सकते है….लेकिन permanent तो नहीं………….

तो ये तो थे temporary तरीके, अब हम बात करते है Permanent:-

  1. Believe in yourself and that you can change- अपने आप पर भरोसा करे, की आप बदल सकते है, यदि आप भरोसा नहीं करेंगे तो आप उतनी मेहनत नहीं करेंगे जितनी आप को सफल होने के लिए करनी चायिये.
  2. हमें ये समझना होगा की ये हमारी सिर्फ सोच है, इसका reality से कुछ भी नहीं लेना देना , ये एक सपने की तरह है…..जेसै जगने पर सपना टूट जाता है… वेसे ही it’s just a thoughts only
  3. जब हम ये समझ लेंगे की इसका वास्तविकता से कुछ भी नहीं लेना, तो वो सोच अपने आप धीरे धीरे चली जाएगी….
  4. No Negative Instruction to Mind- Replace your negative thoughts with positive thoughts
  5. Observe your own Mind: – अपने mind के सोचने के pattren पर ध्यान दीजिए, की हम ऐसा क्यों सोचते है…. We are what we repeatedly do.”
  6. Stop Overthinking अपने साथ हुई किसी घटना को लेकर हमेशा ये मानना की आगे भी मेरे साथ बुरा ही होगा…. eg.मेरा बचपन मुश्किलों में गुजरा है, इसलिए मेरा future भी ऐसा ही होगा… आपको अपनी इस सोच को रोकना होगा…..

 “Don’t waste your time

thinking about things that

     you can’t change”

  • Avoid Personalization: – ये हमारी ही सोच है, की हम उस परिशथिति के लिए भी अपने आप को दोषी मानते है, जिस पर हमारा control भी नहीं होता है… इसके लिए आप को, अपने आप को दोष देना बंद कर देना चायिये क्यों की उस situation पर आप का control नहीं है….
  • Stop jumping to conclusion- eg. यदि आप इस नतीजे पे पहुँचते हे की वो person आप को पसंद नहीं करता , जबकि आप के पास ऐसा कोई evidence नहीं है….. तो आपको ऐसा करना बंद कर देना चायिये, ऐसा आप सिर्फ अपनी सोच की वजह से ही करते है…
  • Smile, even if you don’t feel like it– यदि आप प्रतिकूल परिशथिति में भी मुस्कराते है, तो आप अपने मन और mind को control कर सकते है…… क्यों की

Life is like a mirror. Smile at it and it smiles back at you- Peace Pilgrim

तो हमने देखा की हम हमारे मन को positive सोच के साथ control कर सकते है….और अपनी life को change कर सकते है…..

Thank you for reading

6 Comments

  1. Reply

    सही कहा आपने ,सकारात्मक ओर नकारात्मक परिस्थितियाँ हमारे ही मन की देन है।👌🏼😊

  2. Reply

    बस जहाँ ‘म न’ मनमानी करे इस म न मन को उल्टा कर दें हो जाएगा न म ‘नम

    • Reply

      सही कहा, जैसे ही मन मे आयी गलत सोच को उल्टा करेंगे, हम अपनी सफलता की ओर बढ़ जाएंगे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: