Never stop Learning…

—Every Interaction is an opportunity to learn only,
if we are interested in ‘IMPROVING’
rather than ‘PROVING’.

— When one teaches two learn. – Robert Heinlein

शाम सूरज को ढ़लना सिखाती है,शमा परवाने को जलना सिखाती है,

गिरने वाले को होती तो है तकलीफ,पर ठोकर ही इंसान को चलना सिखाती है…

ठोकरें खा कर भी ना संभले
तो मुसाफ़िर का नसीब,
वरना पत्थरों ने तो
अपना फर्ज़ निभा ही दिया..!

— तुम सिखना मत छोडो क्योकिं जिन्दगी सिखना नही छोड़ती…

Advertisements

2 thoughts on “Never stop Learning…

Leave a Reply